मैनें अपने दिल को संभाल रखा है..

रंगा था जो तूने वो दुपट्टा लाल रखा है,

मैंनें अब तक अपने दिल को संभाल रखा है|

लोगों ने हर जगह आज उड़ा गुलाल रखा है,

आजा रंग दें एक दूजे को क्यूँ दिल में तूने मलाल रखा है|

– पंकज मिश्रा “speaking pen”

Advertisements

एक रंग सुनहरा ऐसा हो
  तेरे चेहरे के जैसा हो
लगे जो मेरे चेहरे पर
फिर रूप  तेरे ही जैसा हो 
#होलीमुबारक

image

speaking pen0271