जल ही जीवन है ..

​आज के इस बढ़ती हुई जनसंख्या के दौर में जल के अपव्यय को कम करते हुए इसके संरक्षण की महती आवश्यकता  है | कहा भी जाता है ‘जल ही जीवन है|’

अगर इस तरह से जल का अपव्यय जारी रहा तो शायद वह दिन दूर नही जिस दिन जल को लेकर  सम्पूर्ण विश्व में जंग छिड़ जाये |
इस संबंध में रहीम जी का ये दोहा सार्थक है

#अपील#

रहिमन पानी राखिये बिन पानी सब सून|

पानी गए न ऊबरे मोती मानस चून||

#WorldWaterDay