रह जायेंगे क्या हार-जीत के मायने..

​गलतियों पे गलतियाँ है किये जा रहे 

अब दिखाये यहाँ कौन आईने 

कुछ जिद पर है अपनी अब भी अड़े 

जीतने को है आतुर अब भी खड़े 

रह जायेंगे क्या हार -जीत के मायने

चंद अपने ही होंगे जब खड़े सामने |

#सफर

– पंकज मिश्रा