फिर न रहेगी कोई बात जात की …

अगर हमें बुनियादी सुविधाये मिल जाए अर्थात खाने के लिए रोटी , पीने के लिए पानी,  और पहनने के लिए। कपडा .. फिर कैसा भेदभाव , कैसा वर्गवाद…आखिर कब हम समता व् विश्व बंधुत्व का सपना साकार करेंगे

फिर बरत देंगे हम एहतियात
कर दे गर कोई एहतमाम काम की
गुजारिश रहेगी न फिर कोई और
हो जाये जो  गर सह मात की
बदल लेंगे हम नक्शा अपने हुश्न का
फिर न रहेगी कोई बात जात की ||

#आकार

-पंकज मिश्रा

image

speaking pen

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s